डायनोसोर (Dinosaur) के हैरान कर देने वाले रोचक तथ्य (Interesting facts) !

0
88

हेल्लो दोस्तों ! आज हम दुनिया के ऐसे खतरनाक जानवर के बारे में facts बताने जा रहे हैं जिसका नाम लेते ही दिमाग में बड़े-बड़े जानवरों के चित्र अपने आप बनने लगते है। जी हाँ ! अपने सही पहचाना हम बात Dinosaur की। हम Dinosaur को Hollywood movies में देखकर ही बड़े हुए है और उनके बारे में कुछ ज्यादा knowledege भी नहीं है।

तो आइए दोस्तों ! आज हम आपको इसी बड़े जानवर के बारे में वो रोचक तथ्य बताने जा रहे हैं जो आपको shocked देंगे :-

1. आज से 23 करोड़ साल पहले Dinosaurs का जन्म हुआ और आज से 6.5 करोड़ साल पहले आखिरी Dinosaurs की मौत हुई।

2. Dianosaurs की पढ़ाई करने वाले व्यक्ति को ‘Paleontologist’ कहते है।

3. Dinosaurs धरती पर 16 करोड़ साल तक रहे। इंसानो का जीवन इसका केवल 0.1% है। डाय़नासोर जिस काल में धरती पर जीवित थे उसे ‘Mesozoic era’ कहा जाता है। ये इस युग के तीनों भागों में जीवित रहे: Triassic, Jurassic, and Cretaceous.

4. ऐसा माना जाता है कि उस समय Dinosaurs की लगभग 2468 प्रजातियाँ थी। इनमें से कुछ प्रजाति उड़ती भी थी।

5. ‘Dinosaur’ शब्द Greek भाषा का शब्द ‘terrible lizard’ से आया है। जिसका अर्थ होता है – भयानक छिपकली। ‘Dianosaur’ शब्द 1842 में एक ब्रिटिश जीवाश्म विज्ञानी “रिचर्ड ओवेन” ने दिया था।

6. Dinnosaurs दहाड़ नही सकते थे, ये सिर्फ मुंह बंद करके घुरघुरा सकते थे।

7. गुजरात की नर्मदा नदी के किनारे भी Dianosaur के अवशेष मिले हैं और ये करीब 7 करोड़ साल पुराने है।

8. इस बात का पक्का सबूत तो नही है लेकिन वैज्ञानिकों का कहना है कि Dianosaurs लगभग 200 साल तक जीते थे।

9. DNA केवल 20 लाख साल तक जीवित रह सकता है, इसलिए Dianosaurs के जीवाशम का DNA टेस्ट नही किया जा सकता।

10. जो Dianosaurs पानी के नजदीक थे उनके सबसे अच्छे अवशेष मिले है।

11. मांस खाने वाले Dianosaurs को ‘थेरोपोड’ कहा जाता है। जिसका मतलब है , ‘राक्षसी पंजो वाले’ ! इनके नाखून बहुत तेज होते थे और शाकाहरी Dianosaurs के पंजे और नाखून इतने तेज नही थे।

12. वैज्ञानिकों का मानना है कि कुछ Dianosaurs ठंडे खून के थे तो कुछ गर्म खून के। शाकाहारी Dianosaurs ठंडे खून के थे, कुछ बड़े आकार वाले शाकाहारी Dianosaurs रोज एक टन खाना खाते थे और मांसाहारी Dianosaurs गर्म खून के थे और ये अपने size के शाकाहारियों Dianosaurs से 10 गुना ज्यादा भोजन खा जाते थे।

13. Dianosaurs की हड्डियाँ खोखली होती थी, खासकर मांसाहारी Dianosaurs की। ताकि इनका वजन हल्का बना रहे और ये दो पैरो पर चलते थे और ये तेजी से भी भाग सके एवं दोनों हाथो से शिकार कर सके। शाकाहारी Dianosaurs अपने भारी शरीर को चलाने के लिए चार पैरों से चलते थे। ये सिर्फ कुछ समय के लिए ही दो पैरों पर संतुलन बना पाते थे।

READ  हाथी के बारे में रोचक तथ्य | Interesting Facts About Elephant in Hindi

14. सबसे बड़े Dianosaurs के अंडे Basket Ball जितने बड़े होते थे। जितना बड़ा अंडा होता उसका कवच उतना ही मोटा होता ताकि बच्चे बाहर ना आ सके। अब तक मिले सबसे छोटे Dianosaur के अंडे की लंबाई 3 cm और वजन 75 gram है। ये अंडा किस प्रजाति का था किसी को नही पता। सबसे बड़ा अंडा 19 इंच की लंबाई का मिला है। ऐसा माना जाता है कि यह एशिया के मांसाहारी Dianosaur का है। Dianosaurs की सभी प्रजातिया अंडे देती थी। अभी तक हमें 40 प्रजातियों के अंडे मिल चुके है।

15. 45 फीट लंबे और 6350 किलो वजनी, T. Rex (Tyrannosaurus rex) सबसे बड़े मांसाहारी Dinosaurs थे। इनके पिछले पैर बहुत बड़े होते थे लेकिन अगले हाथ बिल्कुल छोटे होते थे। इनके दाँत बड़े-बड़े होते थे जिनकी लंबाई जड़ समेत 10 इंच थी। इनके 4 फीट लंबे जबड़े में 50 से 60 दाँत होते थे। ये काट सकते थे लेकिन शिकार को चबाते नही थे बल्कि सीधा निगल जाते थे।

16. सभी Dianosaurs में self-defence system मौजूद था। इनकी अपनी सुरक्षा के लायक हथियार जन्म से इनके पास होते थे। जैसे- मांसाहारी के दांत और नाखून लंबे होते थे। शाकाहारी dinosaur के सींग और पंजे चौड़े होते थे। लेकिन आज तक कोई ये नही जान पाया की Dinosaur की पीठ पर प्लेट क्यों होती थी।

17. अधिकतर Dianosaur सिर्फ एक हड्डी या एक दाँत से खोजे गए है।

18. वर्ष 2015 में, 4 साल के बच्चे ने 10 करोड़ साल पुराने Dianosaur का जीवाश्म खोजा था ।

19. यदि धरती के इतिहास को 24 घंटो का बना दिया जाए तो सुबह 4:00 बजे जीवन शुरू हुआ, रात 10:24 पर पेड़-पौधे उगने शुरू हुए, 11:41 पर डायनासोर विलुप्त हो गए और रात 11:58:43 पर इंसान का जन्म हुआ।

20. Dianosaurs पत्थर के बड़े-बड़े टुकड़े निगल जाते थे। ये इनके पेट में रहकर भोजन पचाने में सहायता करते थे.

21. Dianosaurs , Antartica सहित हर महाद्वीप पर पाए गए है क्योंकि उस समय महाद्वीप एक-दूसरे के नजदीक हुआ करते थे।

22. कुछ Dianosaur की पूंछ 45 मीटर लंबी थी। इनकी लंबी पूँछ भागते समय संतुलन बनाने में मदद करती थी।

23. मध्य चीन के ग्रामीण इलाकों में कई साल तक Dianosaurs की हड्डियों को दवा के रूप में प्रयोग करते रहे थे। वे इन्हें Dragon की हड्डियाँ मानते थे। कुछ लोगो ने इनको इकट्ठा करके व्यापार बना लिया था। एक व्यक्ति ने 8,000 किलो हड्डियाँ इकट्ठी कर ली थी।

READ  Crocodile Facts in Hindi | मगरमच्छ से जुड़े 20 रोचक तथ्य

24. सबसे तेज DInosaur ‘Ornithomimus’थे। ये 70km/h की रफ्तार से दौड़ सकते थे। ये हूबहू आज के शुतुरमुर्ग की तरह दिखते थे लेकिन ये खाते क्या थे आज भी रहस्य है।

25. अब तक खोजे गए सबसे बड़े Dianosaur के कंकाल की लंबाई 89 फीट है। इसका नाम ‘Diplodocus’ रखा गया। ये अमेरिका के ‘व्योमिंग’ शहर में मिला था। सबसे छोटे Dianosaur के कंकाल की लंबाई केवल 4 इंच है और इसका वजन एक चुहिया से भी कम रहा होगा।

26. Bolivia में एक चूना पत्थर की चट्टान पर Dinosaurs के पाँवो के 5,000 निशान पाये गए है, ये निशान करीब 6 करोड़ 80 लाख पुराने हैं ।

27. एक मजेदार बात यह है कि फिल्म का नाम ‘Jurassic Park’ होने के बावजूद इसमें ज्यादातर Dinosaurs ‘Cretaceous’ काल के थे।

28. Dinosaurs एकदम से खत्म हुए हुए इसलिए , क्योंकि आज से 6.5 करोड़ साल पहले Mexico के युकैटन प्रायद्वीप से 6 मील व्यास वाला उल्का पिंड टकराया था। इस टकराव से 112 मील चौड़ा गढ्ढा बन गया। इसकी वजह से बहुत तेज Shock Wave पैदा हुई जो पूरी धरती पर फैल गई। इससे जो जानवर कुत्ते से बड़े आकार के थे वो सभी खत्म हो गए। हालांकि, शार्क, जेलिफ़िश, मछली, बिच्छू, पक्षी, कीड़े, सांप, कछुआ, छिपकली, और मगरमच्छ जैसे जानवरों की जान बच गई।

29. जब हम ऑफलाइन होते हैं तो गूगल क्रोम एक डायनासोर को दिखाता है जानते हैं क्यों ! क्योंकि “इंटरनेट के बिना, अब हम डायनासोर के युग में रह रहे है” ! यह एक गेम है जिसका नाम है ‘Easter egg Chrome T-Rex game’ ! इस गेम को 6 developers की छोटी-सी टीम ने बनाया है। इसमें Edward Jung और Sebastien Gabriel दो मुख्य Developers हैं और गूगल के कैंपस में एक डायनासोर का कंकाल भी है जिसे ‘Stan’ नाम दिया गया है।

आपको हमारी यह Post कैसी लगी. नीचे दिए गए Comment Box में जरूर लिखें. यदि आपको हमारी ये Post पसंद आए तो Please अपने Friends के साथ Share जरूर करें. और हाँ अगर आपने अब तक Free e -Mail Subscription activate नहीं किया है तो नयी पोस्ट ईमेल में प्राप्त करने के लिए Sign Up जरूर करें.

Happy Reading !