अप्रैल फूल दिवस (मूर्ख दिवस) की शुरूआत कब और कहाँ हुई थी : April Fools Day

0
11
April Fools Day

April Fools Day की शुरूआत के बारे में स्पष्ट जानकारी उपलब्ध नहीं है, लेकिन विभिन्न देशों में मुर्ख दिवस की शुरूआत के बारे में अलग-अलग अवधारणाएं प्रचलित हैं।

इनमें सबसे अधिक प्रचलित अवधारणा के मुताबिक प्राचीनकाल में रोमन लोग अप्रैल में अपने नए वर्ष की शुरूआत करते थे, तो वहीं मध्यकालीन यूरोप में 25 मार्च को नववर्ष के उपलक्ष्य में एक उत्सव भी मनाया जाता था लेकिन 1852 में पोप ग्रेगरी अष्ठम ने ग्रेगेरियन कैलेंडर (वर्तमान में मान्य कैलेंडर) की घोषणा की, जिसके आधार पर जनवरी से नए वर्ष की शुरुआत की गई

फ्रांस द्वारा इस कैलेंडर को सबसे पहले स्वीकार किया गया था लेकिन जनश्रुति के अनुसार यूरोप के कई लोगों ने जहां इस कैलेंडर को स्वीकार नहीं किया था तो वहीं कई लोगों को इसके बारे में जानकारी ही नहीं थी जिसके कारण नए कैलेंडर के आधार पर नववर्ष मनाने वाले लोग पुराने तरीके से अप्रैल में नववर्ष मनाने वाले लोगों को मूर्ख मनाने लगे और तभी से अप्रैल फूल या मूर्ख दिवस का प्रचलन बढ़ता चला गया।

अप्रैल फूल दिवस से जुड़ी लोककथाएँ

1. बहुत समय पहले यूनान में “मोक्सर” नामक एक मजाकिया राजा था एक दिन उसने सपना देखा कि किसी चींटी ने उसे जिंदा निगल लिया है सुबह जब उसकी नींद टूटी तो वह अपने सपने को याद कर जोर-जोर से हंसने लगा उसकी रानी ने जब उससे हंसने का कारण पूछा तो उसने बताया कि “रात में मैंने सपने में देखा कि एक चींटी ने मुझे ज़िन्दा निगल लिया है।“ यह सुनकर रानी भी हंसने लगी तभी एक ज्योतिष ने राजा से आकर कहा कि इस सपने का अर्थ है “आज का दिन आप हंसी-मजाक व ठिठोली के साथ व्यतीत करेंl” उस दिन अप्रैल महीने की पहली तारीख थी। अतः उस दिन से हर वर्ष

1 अप्रैल को हंसी-मजाक से भरा दिन के रूप में मनाया जाने लगा

2. एक अन्य लोक कथा के अनुसार एक अप्सरा ने किसान से दोस्ती की और कहा, “यदि तुम एक मटकी भर पानी एक ही सांस में पी जाओगे तो मैं तुम्हें वरदान दूंगी” मेहनतकश किसान ने तुरंत पानी से भरा मटका उठाया और पी गया जब उसने वरदान वाली बात दोहराई तो अप्सरा बोली, “‘तुम बहुत भोल-भाले हो, आज से तुम्हें मैं यह वरदान देती हूं कि तुम अपनी चुटीली बातों द्वारा लोगों के बीच खूब हंसी-मजाक करोगे” अप्सरा का वरदान पाकर किसान ने लोगों को बहुत हंसाया और हंसने-हंसाने के कारण हंसी के एक पर्व का जन्म हुआ जिसे हम मूर्ख दिवस के नाम से पुकारते हैं

READ  Good Friday 2020 : जानें ईसा मसीह के जीवन से जुड़े 10 रोचक तथ्य

3. किसी समय स्पेन का राजा “माउन्टो बेर” था एक दिन उन्होंने घोषणा कराई कि जो सबसे सच्चा झूठ लिख कर लाएगा, उसे ईनाम दिया जाएगा प्रतियोगिता के दिन राजा के पास “सच्चे झूठ” के हजारों खत पहुंचे, लेकिन राजा किसी के खत से संतुष्ट नहीं था अंत में एक लड़की ने आकर कहा “महाराज मैं गूंगी और अंधी हूँ” यह सुनकर राजा चकराया और पूछा “तुम्हारे पास क्या सबूत है कि तुम सचमुच अंधी हो” तब उस लड़की ने बताया कि, “महल के सामने जो पेड़ लगा है, वह आपको तो दिखाई दे रहा है, लेकिन मुझे नहीं दिखाई दे रहा है” इस बात पर राजा खूब हंसा। उसने लड़की को झूठे मजाक का ईनाम दिया और प्रजा के बीच घोषणा करवाई कि अब हम हर वर्ष पहली अप्रैल को मूर्ख दिवस मनाएंगे तब से आज तक यह परम्परा चली आ रही है

4. ईसा पूर्व एथेंस नगर में चार मित्र रहते थे। इनमें से एक अपने को बहुत बुद्धिमान समझता था और दूसरों को नीचा दिखाने में उसको बहुत मजा आता था एक बार तीनों मित्रों ने मिल कर एक चाल सोची और उस से कहा कि कल रात में एक अनोखा सपना दिखायी दिया। सपने में हमने देखा कि एक देवी हमारे समाने खड़ी होकर कह रही है कि कल रात पहाड़ी की चोटी पर एक दिव्य ज्योति प्रकट होगी और मनचाहा वरदान देगी, इसलिए तुम अपने सभी मित्रों के साथ वहाँ ज़रूर आना

अपने को बुद्धिमान समझने वाले उस मित्र ने उनकी बात पर विश्वास कर लिया निश्चित समय पर वह पहाड़ की चोटी पर पहुँच गया साथ ही कुछ और लोग भी उसके साथ यह तमाशा देखने के लिए पहुँच गए और जिन्होंने यह बात बताई थी वह छिप कर सब तमाशा देख रहे थे धीरे धीरे भीड़ बढ़ने लगी और आकाश में चन्द्रमा और तारे भी चमकने लगे पर उस दिव्य ज्योति के कहीं दर्शन नहीं हुए और न ही उनका कहीं नामों निशान दिखा कहते हैं कि उस दिन 1 अप्रैल था और उस दिन के बाद से एथेंस में हर वर्ष मूर्ख बनाने की प्रथा चल पड़ी बाद में धीरे धीरे दूसरे देशों ने भी इसको अपना लिया और अपने जानने वाले चिर-परिचितों को 1 अप्रैल को मूर्ख बनाने लगे। इस तरह मूर्ख दिवस का जन्म हुआ।

READ  Amazing Facts In Hindi : रोचक तथ्य (04/05/2018)

April Fools Day के अवसर पर होने वाले कार्यक्रम

1. फ्रांस में “अप्रैल फूल दिवस” के अवसर पर मूर्खों, कवियों और व्यंग्यकारों का रोमांचक कार्यक्रम होता है यह कार्यक्रम 7 दिनों तक लगातार चलता है। इस मनोरंजक कार्यक्रम में भाग लेने वाले युवक को युवती की ड्रेस पहननी पड़ती है और मूर्ख बनने वाले व्यक्ति को ईनाम दिया जाता है।

2. चीन में फ्रांस में “April Fools Day” के अवसर पर बैरंग पार्सल भेजने और मिठाई बांटने की परंपरा है। इस दिन यहाँ के बच्चे खूब हंसते हैं। यहाँ के लोग जंगली जानवर के मुखौटे पहनकर आने-जाने वाले लोगों को डराते हैं।

3. रोम में “अप्रैल फूल दिवस” के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम 7 दिनों तक चलता है और चीन की भांति बैरंग पार्सल भेज कर मूर्ख बनाया जाता है।

4. जापान में “April Fools Day” पर बच्चे पतंग पर इनामी घोषणा लिख कर उड़ाते हैं और पतंग पकड़ कर इनाम मांगने वाला व्यक्ति “अप्रैल फूल” बन जाता है

5. इंग्लैंड में “अप्रैल फूल दिवस” के अवसर पर अत्यंत मनोरंजक एवं रोचक कार्यक्रम होते हैं। इस कार्यक्रम में मूर्खता भरे गीत गाकर लोगों को मूर्ख बनाया जाता है।

6. स्कॉटलैंड में “अप्रैल फूल दिवस” को “हंटिंग द कूल” के नाम से जाना जाता है। इस दिन “मुर्गा चुराना” यहाँ की विशेष परंपरा है। मुर्गे का मालिक भी इसका बुरा नहीं मानता है इसके अलावा नए-नए तरीके ढूंढ़ कर लोग एक-दूसरे को बेवकूफ बनाते हैं।